Skip to content

तुकांत कविता

kalipad prasad

kalipad prasad

कविता

October 14, 2016

हम हैं जवान रक्षक देश के, अडिग जानो हमारा अहद,
प्रबल चेतावनी समझो इसे, भूलकर पार करना न सरहद |
अत्याचार किया अबतक तुमने, हमने भी सहन किया बेहद,
सर्जिकल का नमूना तो देखा, अब तो पहचानो अपनी हद |
मानकर तुम्हे पडोसी हमने, दिया तुम्हे समुचित मान ,
उदारता को तुम कमजोरी समझे, हमारी शक्ति का नहीं कुछ ज्ञान |
याद करो इकहत्तर की लड़ाई, बांग्ला देश हुआ था तब आज़ाद,
अब लड़ोगे तो जायगा बलूच हाथ से, तुम हो जाओगे पूरा बर्बाद |
लड़ाई की धमकी देतो हो किन्तु, अंजाम का कुछ नहीं है ज्ञान,
नक़्शे पर कहीं नहीं होगा तब, पाकिस्तान का नामो निशान |
सोचो, बदल जाय माली अगर, कब्जे वाले आज़ाद काश्मीर का
क्या होगा अंजाम तब , पाक पोषित घृणित आतंक का ?
भोले भाले नौजवान आते भरने पेट, अपने और परिवार जनो के
जेहाद का भ्रमित विष पिलाकर, उन्हें बना देतो हो तुम आतंकी |
सरहद पार भारत में आकर, करते हैं वे भ्रष्ट, आतंकी उत्पात
अकाल मृत्यु सब करते हैं प्राप्त, होता परिवार पर उल्कापात |
सुनो, संभल जाओ, अभी समय है, बन जाओ अब थोड़ा अकल्मन्द
खड़े वीर जवान सरहद पर हमारे, अभेद्य, सुरक्षित है हमारी सरहद |

कालीपद प्रसाद
सर्वाधिकार सुरक्षित

Author
kalipad prasad
स्वांत सुखाय लिख्ता हूँ |दिल के आकाश में जब भाव, भावना, विचारों के बादल गरजने लगते हैं तो कागज पर तुकांत, अतुकांत कविता ,दोहे , ग़ज़ल , मुक्तक , हाइकू, तांका, लघु कथा, कहानी और कभी कभी उपन्यास के रूप... Read more
Recommended Posts
तुम.... तब और अब (हास्य-कविता)
तुम.... तब और अब **************************************** तब तुम अल्हड़ शोख कली थी, अब पूरी फुलवारी हो, तब तुम पलकों पर रहती थी, अब तुम मुझ पर... Read more
तेरा मेरा साथ
तब तुम्हारे साथ का नशा था अब तुम्हारे दीदार का नशा है तब तुम्हारे प्यार में मशगुल था अब तुम्हारे प्यार के लिये मशगुल हैं... Read more
जब से छोड़ा है तूने साथ
जब से छोड़ा है तूने साथ हमने संभलना सीख लिया है, मौसम के जैसा अब हमने भी बदलना सीख लिया है, जिसको देखकर तुम ओझल... Read more
मै तुम्हे कैसे बताउ/मंदीप
मै तुम्हे कैसे बताऊ/मंदीप है तुम से कितनी चाहत मै तुम्हे कैसे बताऊ। करता दिल मेरा अपने आप से बात तुम्हारी मै तुम्हे कैसे बताऊ।... Read more