Nov 24, 2018 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

तीन मुक्तक (शादी, फैशन, काला)

तीन मुक्तक (शादी, फैशन, काला)
●●●●●●●●●●●●●●●●
(1) शादी
कुँवारा जबतलक है खुल के मेरा यार दौड़ेगा
गले में हार के पड़ते ही लेकर हार दौड़ेगा
हुई शादी हुए बच्चे तो समझो उम्र जाने तक
बेचारा देखना कैसे हुए लाचार दौड़ेगा
(2) फैशन
बहू ही तो नहीं केवल दिखे अब सास फैशन में
भले सूरत हो कैसी भी दिखे है खास फैशन में
लगाकर पेंट खुशबूदार निकले जब सड़क पे वो
कि ढलती उम्र का होता नहीं अहसास फैशन में
(3) काला
मुझे अपना बना लो तुम मुहब्बत में मैं आला हूँ
हँसों ना देखकर सूरत भले कौवे से काला हूँ
मेरे जैसा ही काला तिल तेरे गालों पे है जानम
नज़र में ही मुझे रखना नज़र का मैं उजाला हूँ

– आकाश महेशपुरी

6 Likes · 208 Views
Copy link to share
आकाश महेशपुरी
243 Posts · 48.3k Views
Follow 39 Followers
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मूल नाम- वकील कुशवाहा जन्मतिथि- 15 अगस्त... View full profile
You may also like: