.
Skip to content

तीन मुक्तकों से संरचित रमेशराज की एक तेवरी

कवि रमेशराज

कवि रमेशराज

तेवरी

June 3, 2017

जनता पर वार उसी के हैं
चैनल-अख़बार उसी के हैं |
इसलिए उधर ही रंगत है
सारे त्योहार उसी के हैं |

सब अत्याचार उसी के हैं
अब थानेदार उसी के हैं |
हम सिसक रहे जिस बोझ तले
सारे अधिभार उसी के हैं |

कोड़े तैयार उसी के हैं
बिजली के तार उसी के हैं |
तू बचा सके तो बचा बदन
फैंके अंगार उसी के हैं |
+रमेशराज

Author
कवि रमेशराज
परिचय : कवि रमेशराज —————————————————— पूरा नाम-रमेशचन्द्र गुप्त, पिता- लोककवि रामचरन गुप्त, जन्म-15 मार्च 1954, गांव-एसी, जनपद-अलीगढ़,शिक्षा-एम.ए. हिन्दी, एम.ए. भूगोल सम्पादन-तेवरीपक्ष [त्रैमा. ]सम्पादित कृतियां1.अभी जुबां कटी नहीं [ तेवरी-संग्रह ] 2. कबीर जि़न्दा है [ तेवरी-संग्रह]3. इतिहास घायल है [... Read more
Recommended Posts
तेवरी
मैं भी अगर भाट बन जाता गुण्डों को सेवक बतलाता | कोयल के बदले कौवों को सच्चा स्वर-सम्राट सुझाता | सारे के सारे खलनायक मेरे... Read more
अनेक तेवरी-संग्रहों का एक ही पुस्तकाकार रूप-  “ रमेशराज के चर्चित तेवरी संग्रह “
अनेक तेवरी-संग्रहों का एक ही पुस्तकाकार रूप- “ रमेशराज के चर्चित तेवरी संग्रह “ +अशोक अंजुम ---------------------------------------------------- सार्थक सृजन प्रकाशन, 15/109, ईसानगर, अलीगढ़ से प्रकाशित... Read more
रमेशराज की  तेवरी
जनता की थाली बम भोले अब खाली-खाली बम भोले | श्रम जिसके खून-पसीने में उसको ही गाली बम भोले | इस युग के सब गाँधीवादी... Read more
प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
तेवरी जन-जन की उस भाषा की अभिव्यक्ति है, जो सारे भारतीयों की ज़ुबान है ------------------------------------------------------------------- [ प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की... Read more