.
Skip to content

तीन तलाक

डॉ सुलक्षणा अहलावत

डॉ सुलक्षणा अहलावत

कविता

October 25, 2016

खुश हो लिए तुम तीन बार तलाक कह कर,
पता है मन भर गया है तुम्हारा साथ रह कर।

एक पल को भी नहीं सोचा कहाँ जाऊँगी मैं,
क्या तुम्हारा दिया यह दुःख सह पाऊँगी मैं।

सबने मंजूरी दे दी तलाक को बिना इजाजत,
खुदा का भी खौफ रहा नहीं आएगी कयामत।

क्या भविष्य रहेगा मेरे बच्चों का नहीं सोचा,
ज़िस्म को क्या तुमने मेरी रूह को भी नोचा।

बोलो कोई तो क्यों मैं बार बार निकाह पढ़ाऊँ,
कोई पशु नहीं हूँ जो हर रोज खूँटे बदले जाऊँ।

क्या होगा जब दूसरे तीसरे का मन भर जाएगा,
बूढ़ी हो जाऊँगी ऐसे ही मैं, कौन साथ निभाएगा।

तलाक के साथ मेहर देकर अहसान जताते हो,
साथ में जवानी के वो साल क्यों नहीं लौटाते हो।

बराबरी का दर्जा मुझे भी चाहिए ये मेरा हक है,
गलत फायदा उठा रहे हो तुम कोई नहीं शक है।

मेरी जिंदगी का फैसला दूसरे करें ये मंजूर नहीं,
जब बदला जाएगा रिवाज अब वो दिन दूर नहीं।

सुलक्षणा एक साथ लड़नी होगी ये लड़ाई हमें,
वरना जीने नहीं देंगे चैन से ये मर्द अन्यायी हमें।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

Author
डॉ सुलक्षणा अहलावत
लिख सकूँ कुछ ऐसा जो दिल को छू जाये, मेरे हर शब्द से मोहब्बत की खुशबु आये। शिक्षा विभाग हरियाणा सरकार में अंग्रेजी प्रवक्ता के पद पर कार्यरत हूँ। हरियाणवी लोक गायक श्री रणबीर सिंह बड़वासनी मेरे गुरु हैं। माँ... Read more
Recommended Posts
वाट्सएप पर तलाक
"वाट्सएप पर तलाक" -------------------------- तीन तलाक !!! वाट्सएप पर !!!! गजब हुआ ! हिना के शौहर ने ये क्या किया ? बस तीन बार बोला... Read more
मुद्दा तीन तलाक का
मुद्दा तीन तलाक का,हुए वहां सब मौन ! पीडा नारी की यहाँ,समझेगा फिर कौन !! नारी की करता नही ,इज्जत जहां समाज ! वहां सफल... Read more
तलाक़
तलाक़ तलाक़ तलाक़ एक लब्ज़ जो कर देता है पल भर में रिश्तों को तार तार काँप जाती है रूह सुनकर औरतो के साथ हो... Read more
एक बार बता तो आखिर बात क्या है ?
एक बार बता तो आखिर बात क्या है ? खफा होना तो हक़ है तेरा, मगर ये बेवजह बेरुखी कि बुनियाद क्या है ? एक... Read more