Skip to content

तीन कुण्डलिया

सतीश तिवारी 'सरस'

सतीश तिवारी 'सरस'

कुण्डलिया

February 23, 2017

(१)
आ़यी जीवनसंगिनी,नहीं अब तलक यार.
जाने कब देगा सरस,दुलहिन इक करतार.
दुलहिन इक करतार,माँगती रहती माता.
मिलेगी या न यार,प्रश्न यह दिल में आता.
कह सतीश कविराय,उदासी मन में छायी.
अब तक दिल-सी मीत,नहीं जीवन में आयी.

(२)
भैया धर्म के काम भी,पूर्ण न माने जाँय.
जब तक बाँये पक्ष में,संगिनी न बैठाँय.
संगिनी न बैठाँय.तब तलक विफल हवन हों.
फिर हम कैसे बंधु,बहुरिया बिना मगन हों.
कह सतीश कविराय,बनेगा कौन खिवैया.
कठिन उड़ाना मौज,बिना दुलहिन के भैया.

(३)
तन्हाई जीवन भखै,भखै सकल आनंद.
मनुआ बेपरवाह हो,पा ले परमानंद.
पा ले परमानंद,प्यार मत माँग किसी से.
रख ले व्यथा सम्हाल,सोच न कोई पसीजे.
कह सतीश कविराय,छोड़ सब चिन्ता भाई.
गहरे पानी पैठ,मात खाये तन्हाई.
*सतीश तिवारी ‘सरस’,नरसिंहपुर (म.प्र.)
Mb-09993879566

Author
Recommended Posts
पिता आपकी याद में...
पिता पर केन्द्रित तीन कुण्डलिया छंद (1) पिता आपकी याद में,गुज़रें दिन अरु रात। किन्तु आपके बिनु मुझे,कुछ भी नहीं सुहात।। कुछ भी नहीं सुहात,भोज... Read more
तीन कुण्डलिया छंद
(१) मेरे-तेरे में लगा,क्यों कर के साहित्य. दिखे न अब उर का सरस,लेखन में लालित्य. लेखन में लालित्य,कहाँ से आये भैया. रहा व्यक्ति को पूज,आज... Read more
एक कुण्डलिया
परम्परा को तोड़ना,नव-पीढ़ी की रीत. जो कुछ गाया जा सके,वही कहाये गीत. वही कहाये गीत,सहज में जो आ जाये. अनपढ़ भी सुन बन्धु,जिसे निज लय... Read more
तीन कुण्डलिया छंद
(1) सच को मैं जो थामता,उतने हों वो दूर. अहंकार में ख़ुद रमें,हमें कहें मगरूर. हमें कहें मगरूर,चूर नफ़रत में रहते. स्वयं साधते स्वार्थ,स्वार्थी हमको... Read more