.
Skip to content

” तिरंगे में लिपटी जवानी कहाँ है “

Kavi DrPatel

Kavi DrPatel

गज़ल/गीतिका

June 10, 2016

****************************
दुआ बन्दगी की निशानी कहाँ है ।
मरा आँख में आज पानी कहाँ है ।

सिसकती मेरे देश की आज सरहद ।
बता और कीमत चुकानी कहाँ है ।

हरिश्चंद जैसे कहाँ सत्यवादी ।
कहाँ अब वो राजा वो रानी कहाँ है ।

मुझे जो यहाँ पर कशिश खींच लायी ।
मैं आवाज देता दिवानी कहाँ है ।

मेरा दिल चुराया तो लौटा उसे दो ।
मेहरबान थे मेहरबानी कहाँ है ।

दुआ मुझको देती जुदाई को सहकर ।
वफ़ा की वो कसमें निभानी कहाँ है ।

पिला दो हमे आज नजरों से साकी ।
बहुत ब्रांड बदले पुरानी कहाँ है ।

निशानी लगाकर के सीने से रक्खी ।
बढ़ा हाथ कह दे पिन्हानी कहाँ है ।

बसा बीच सरहद पे लें आशियाँ हम ।
बता दूरियां अब मिटानी कहाँ है ।

चला वीर हूँ आज सबसे जुदा हो ।
तिरंगे में लिपटी जवानी कहाँ है ।
*****************************
वीर पटेल

Author
Kavi DrPatel
मैं कवि डॉ. वीर पटेल नगर पंचायत ऊगू जनपद उन्नाव (उ.प्र.) स्वतन्त्र लेखन हिंदी कविता ,गीत , दोहे , छंद, मुक्तक ,गजल , द्वारा सामाजिक व ऐतिहासिक भावपूर्ण सृजन से समाज में जन जागरण करना
Recommended Posts
चैन कहाँ आराम कहाँ अब
चैन कहाँ आराम कहाँ अब खुशियों वाली शाम कहाँ अब जिसने प्रेम सिखाया जग को राधा का वो श्याम कहाँ अब इक दूजे के लिये... Read more
फूलों सी खिलती हैं अब मुस्कान कहाँ
फूलों सी खिलती हैं अब मुस्कान कहाँ चिड़ियों के भी पहले जैसे गान कहाँ आज एक ही बच्चे से परिवार बने रत्नों जैसे रिश्तों की... Read more
ग़ज़ल
पहले जो संयुक्त परिवार हुआ करते थे वो ना जाने आज कहाँ गए..? न जाने आज गाव से पनघट कहाँ गए..? सर से उतर के... Read more
ग़ज़ल
"माँ" न जाने आज गांव से पनघट कहाँ गए..? सर से उतर कर लाज के घूघट कहाँ गए..? हर इक लिहाज शर्म को खूंटी पे... Read more