तिरंगा

जीवन तो है आना जाना।
अपने फर्ज कभी न भुलाना।

अपने वतन पर मिटेंगे हम;
कभी न कदम पीछे हटाना।

जो जां काम न आए वतन पर;
कैसे मां का कर्ज चुकाना।

आओ कदम बड़ाएं मिलकर;
देश को यूं आगे बड़ाना।

तिरंगा घर- घर लहराएगा;
दुश्मन का न तुम खौफ खाना।।।
कामनी गुप्ता***

Like Comment 0
Views 13

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share