.
Skip to content

तिरंगा

Neelam Sharma

Neelam Sharma

गीत

August 12, 2017

शत शत नमन हे ध्वज तिरंगे, किया जो स्वतंत्रनाद घोष।
मना रहें हम सब आज़ादी, सहर्ष उल्लास,असीम जोश।
दे कुर्बानी भगत,सतगुरु सुभाष बोस ने किया स्वतंत्र उद्घोष।
लहरा स्वच्छंद उन्मुक्त तिरंगा गगन में,पाया आत्मसंतोष।

अग्निगाथा है तुम्हारी सब देशभग्तों की वीरता हुंकारी।
शिव तांडव सा नृत्य करती,युद्ध नाद गांडीव टंकारी।
जय विजय की ऊर्जस्वित ऊष्मा से सभी शत्रु संहारी।
रणभेरी फूंक शूरवीरों ने,शत्रूओं पर फेरी थी बुहारी।

नीलम शर्मा

Author
Neelam Sharma
Recommended Posts
आजाद तेरी आजादी
भारत मां के अमर पुत्र "चन्द्रशेखर आजाद" की पुण्य तिथि पर मेरी एक तुच्छ सी रचना l रचना का भाव समझने के लिये पूरी रचना... Read more
जवानों को शत शत नमन
हैवानों के देश में ,विष की फलती बेल भूल तभी अपना खुदा ,खेलें खूनी खेल करता है जो पाक तू, सदा पीठ पर वार कपटी... Read more
हनुमंत
संकट मोचन हनुमंत, शत शत तुझे प्रणाम श्रद्धा से ध्याऊँ तुझे, पूर्ण कीजे सब काम दुःख की छाया न पड़े, करूँ यही कामना मंगलमूर्ति हे... Read more
भारत मेरा महान् (देशगान)
उन्‍नत भाल हिमालय सुरसरि, गंगा जिसकी आन। उन्‍मुक्‍त तिरंगा शान्ति-दूत बन, देता है संज्ञान। चक्र सुदर्शन सा लहराए, करता है गुणगान। चहूँ दिशा पहुँचेगी मेरे,... Read more