· Reading time: 1 minute

“तितली”

*तितली*

तितली की है,पंख निराली;
तितली होती भोली-भाली।

उड़े ये, फूलों की हर डाली;
लगती खुशबू की मतवाली।

बागों में यह, यों मंडराती है;
जैसे,मालिन आती-जाती है।

ये होती है, बहुत रंग-बिरंगी;
फूलों की होती है , हमसंगी।

है इसकी भी, दुनिया अपने;
देखती है, ये भी कई सपने।

है यह,हर फुलवारी की शान;
कोई न करे, इसको परेशान।

**********************

..✍️ प्राजंल
….कटिहार।

6 Likes · 6 Comments · 166 Views
Like
Author
You may also like:
Loading...