.
Skip to content

तश्वीर तेरी

सोमेश त्रिपाठी निर्झर

सोमेश त्रिपाठी निर्झर

गज़ल/गीतिका

February 1, 2017

आलमारी में रखी किताबों को झाड़ते हुए
मैंने पाया तुझे,डायरी को फाड़ते हुए

किताबों के बीच से जब गिरी तेरी तश्वीर
लगा!कलेजे पर रख दिया किसी ने शमशीर

तेरी यादों की फसल को काटा था मैंने खंजर से
एक पल में सब याद आ गया इस नए मंजर से

उठाकर जब मैंने निहारा, नजदीक से तेरी तश्वीर
मानो मिल गया मुझको तेरा फिर से नया मुखबीर

एक पल में तश्वीर तेरी यादें ताज़ा कर गयी
मुझे लगा,जैसे तू मुझको फिर से मिल गयी

जनता हूँ कोई मतलब नही अब तेरी चाहत का
न कोई रास्ता ही है बचा अब मेरी राहत का

मन के भावों को समेट कर “सोमेश” ने वैसे रख लिया
जैसे तश्वीर को तेरी,किताबों में फिर से तह दिया
सोमेश त्रिपाठी “निर्झर”

Author
सोमेश त्रिपाठी निर्झर
मैं शब्दों से खेल कर खुश रहता हूँ लोग बेवजह पूछते है खुश ए मिजाज का माजरा क्या है
Recommended Posts
तेरी याद
मेरे खामोश लबों के हिलने से तेरी आवाज़ आई । सच कहता हूँ उस पल तेरी, बहुत याद आई । पत्तों की सरसराहट से दिल... Read more
मुक्तक
तेरी याद आज भी मुझको रुलाती है! तेरी याद आज भी मुझको सताती है! भूलना मुमकिन नहीं है तेरे प्यार को, तेरी याद आज भी... Read more
अच्छा सा लगा मुझको
ये शहर वफ़ाओं का दरिया सा लगा मुझको हर शख़्स मुहब्बत में डूबा सा लगा मुझको हद दर्जा शरारत पर कुछ शोख़ अदाओं से जब... Read more
****सुखी हुई पत्तियन और तेरी याद**
ऐसे फूलों से प्यार नहीं करता कोई जिस की महक गुजर जाती है मैं उन फूलों को समेट के रख लेता हूँ जिस में से... Read more