"तरबतर"

लबालब भरे ये श्याम घन
चले आये हैं डग बढ़ाये
धरा लहलहाती , खिलखिलाती
है उनके आतिथ्य में सर झुकाये

काले -काले मेघों के ये घेरे हैं ख़ूब घेरे
ज़रा सा हाथ बढ़ाया और बरस पड़े
पावन सी प्रकृति खिल -खिल गयी
रेशमी बूंदों से पहन ताज़गी का पैरहन

ठहर -ठहर गुज़रती हवा आईने से जल पर
करती चली बेतकल्लुफ चित्रकारियां
बारिशों ने भिगोई है जो शाम ओ सहर
तरबतर हो गया है दिल का शहर

2 Likes · 2 Comments · 60 Views
You may also like: