Skip to content

तम्बाकू दुश्मन है

हेमा तिवारी भट्ट

हेमा तिवारी भट्ट

कुण्डलिया

May 31, 2017

कुण्डलिया छन्द
(विश्व तम्बाकू निषेध दिवस पर)

तम्बाकू मुँह डाल के,कलुवा रहा चबाय
पैकिट में चेतावनी,माथा रही खुजाय
माथा रही खुजाय,पढ़ेगा कैसे कलुवा
पढ़े लिखे भी खाय,सजा कर जैसे हलुवा
कहता कवि घबराय,बचो तीखा यह चाकू
हड्डी लेय निचोड़,रोग बनकर तम्बाकू
हेमा तिवारी भट्ट

Author
हेमा तिवारी भट्ट
लिखना,पढ़ना और पढ़ाना अच्छा लगता है, खुद से खुद का ही बतियाना अच्छा लगता है, राग,द्वेष न घृृणा,कपट हो मानव के मन में , दिल में ऐसे ख्वाब सजाना अच्छा लगता है
Recommended Posts
कुण्डलिया छंद
डरता सत्य नहीं कभी, वह होता बेबाक. वह हरगिज़ झुकता नहीं,होती उसकी धाक. होती उसकी धाक, भले आयें तकलीफें सहनशील हो चले, सभी ग़म माथा... Read more
फिर उसे मेरी याद आ रही होगी - कुमार विश्वास
आप आये या बाहर आई नव जीवन नई चाँदनी साथ लाई,तोड़ ही चुके थे इस रंग से नाता,नई चमक,नव अनुभव साथ लाई फिर उसे मेरी... Read more
वाह! कमाया नाम.....: छंद कुण्डलिया
________________________________ कुण्डलिया: पेरिस पर हमले किये, वाह! कमाया नाम. इससे कोई मत करे, परिभाषित इस्लाम.. परिभाषित इस्लाम, पहन सेना सी वर्दी. क़त्ल, भले. निर्दोष, कहाँ... Read more
नशाखोरी
मिट रही है युवा पीढ़ी आज मेरे देश का, नशाखोरी बन रहा दुर्भाग्य मेरे देश का। शर्म आंखों की मीटी है मुख पे है गाली... Read more