.
Skip to content

तमन्ना

Bodhisatva kastooriya

Bodhisatva kastooriya

शेर

March 6, 2017

तेरी नफ़रतें अब मुझे रास आने लगी हैं,
दूर भी रहे ,तेरी हसरतें पास आने लगी है!!
तेरी शि्कायतों से आज भी आज़िज़ नही,
कुछ बेवज़ह, मगर कुछ खास आने लगीहै!!
—२—
है तमन्ना तुम्हें निहारते यह ज़िन्दगी गुज़ार दूं,
जो तुम्हे कोई न दे सका, मैं तुम्हे वो प्यार दूं!
सच्चाईयों से इस ज़िन्दगी की ,नावाकिफ़ है तू,
प्यार का बुखार जो चढा है तुझॆ, उसे उतार दूं!!
आज इशक भी सरे आम नीलाम हो रहा है ,
जो दाम नही हो खरीदने को, तो मैं उधार दू !!
नौजवानों से क्या पूछते हो प्यार का फ़ल्सफ़ा,
जो कोई ना हो सके तेरा,फ़िर भी उसे प्यार दू!!

—-३—–
फ़िज़ा पर असर हवाओं का होता है .
मोहब्बत पर असर अदाओं का होता है!
कोई ऐसे ही किसी का दीवाना नही होता,
कुछ कुसूर तो निगाहो का होता है !!

—४——
तेरे प्यार ने ऐसा ढाया कहर,
याद करता हूं शाम-ओ-सहर!!
इन्तज़ार रहता हैतेरे दीदार का,
निगाहें ढूंढती हैं तुझे हर प्रहर!!

बोधिसत्व कस्तूरिया २०२ नीरव निकुन्ज सिक्न्दरा आगरा २८२००७
९४१२४४३०९३

Author
Bodhisatva kastooriya
नाम: बो्धिसत्व कस्तूरिया पिता का नाम : स्व०श्री प्रकाश शर्मा माता का नाम : श्री मती शान्ति प्रकाश शर्मा जन्म तिथि : ११-०९-१९५२ स्थाई पता : २०२ नीरव निकुन्ज सिकन्दरा, आगरा २८२००७ शिछा : एम०ए०(समाज शास्त्र),एल०एल०बी०(आनर्स)पी०जी०डिप्लोमा लेबर ला एन्ड लेबर... Read more
Recommended Posts
ज़िन्दगी तेरी होने लगी है
ज़िन्दगी तेरी होने लगी है सपनों में तेरे खोने लगी है लब भी नाम तेरा बुदबुदाते है अब तेरी आदत सी होने लगी है कोरे... Read more
ग़ज़ल।मेरे एहसास की दुनिया बसाओ तो तुम्हे जाने।
ग़ज़ल।मेरे एहसास की दुनिया। चलो रश्मे मुहब्बत को निभाओ तो तुम्हे जाने । मेरे एहसास की दुनिया बसाओ तो तुम्हें जाने ।। वही ज़ुल्फ़ों की... Read more
*ये तेरी जुल्फ उठा दूं *
ये तेरी ज़ुल्फ़ उठा दूं तो शर्मसार हो जाये तूं ये तेरी ज़ुल्फ़ उठा दूं तो ओठ दांतो से दबाये तूं घनघोर घटा तेरे गेसुओँ... Read more
मिसरा-जिंदगी खुशनुमा रंग भरने लगी।
गज़ल मिसरा-जिंदगी खुशनुमा रंग भरने लगी। हर इक सूरत में तेरी सूरत नज़र आने लगी सच है कि जिंदगी खुशनुमा रंग भरने लगी। जीते जी... Read more