.
Skip to content

” तन हुआ बंसुरिया ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

गीत

July 12, 2017

प्रियतम का स्पर्श पा ,
मानो धन्य हुई |
छुअन की अनुभूति में ,
डूबी-मगन हुई |
चमक गई मन के अंधियारे –
ज्यों बिजुरिया ||

अधरों की छुअन मीठी ,
धडकनों में द्वन्द |
रोम रोम व्याप्त मौन ,
पलकें हुई बंद |
बदरी सी बरसी खुशियाँ –
अपनी डगरिया ||

सब टूट गये तटबंध यों ,
बहका सरित प्रवाह |
सागर से मिलने की ,
बढ़ती गयी चाह |
खो जाऊं अस्तित्व अपना –
उठती लहरिया ||

हैं जगे सुर मदिर ऐसे ,
हो गयी निहाल |
तन मन ने सुध खो दी,
लज्जावनत ,बेहाल |
सब कसे हुए बंध ढीले –
कमसिन उमरिया ||

बृज व्यास

Author
भगवती प्रसाद व्यास
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में... Read more
Recommended Posts
खुशबू बिखर गयी ,धरती निखर गयी:जितेंद्रकमलआनंद ( पोस्ट१०४)
Jitendra Anand गीत Oct 24, 2016
खुशबू बिखर गयी ( गीत ) ******************* गेंदा , सरसो ,टेसू फूले , खुशबू बिखर गयी । पुष्प झरे जब शुभ स्वागत में , धरती... Read more
बाँसुरी
* बाँसुरी * -------- ब्रजभाषा में छंद ------------ जबहु निहारी कभी श्याम की सलौनी छवि , मन मेरौ श्याम की लुभाय गयी बाँसुरी । जब... Read more
--- मैं खिल उठूंगी तुम्हारी छुअन से
...ओ प्रियतम, सुनो ना...। तुम्हारी छुअन के बिना मैं कैसी सूख सी गई हूं। तुम मुझे यूं ऐसे बिसरा गए हो कि अब कहीं मन... Read more
इंतज़ार अब और नहीं ! होगा कोई शोर नहीं ! पल-पल होगें चुप्पी साधे , चले किसी का ज़ोर नहीं ! रंग बिरंगी इस दुनिया... Read more