तन मन धन

1
पंच तत्व से तन बना, उस मे ही मिल जाय
नहीं यहां से साथ में, कुछ भी ले जा पाय
2
सोता जब ये तन रहे,मन रहता गतिमान
सपनों के ही साथ मिल, ऊँची भरे उड़ान
3
अगर रहे बीमार तन,जीवन है लाचार
कोठी नौकर कार धन, सब लगते बेकार
4
जनमत के आधार पर, बात कही गर जाय
होती है मंजूर वो, काट न कोई पाय

29-11-2018
डॉ अर्चना गुप्ता

Like 5 Comment 6
Views 41

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing