.
Skip to content

तन्हाई…… कविता विरह की

Sajan Murarka

Sajan Murarka

कविता

January 18, 2017

तन्हाई…… कविता विरह की

तन्हाई मे
निश्चुप निःशब्द लम्हों में
गौर से सुना तो
लिपटते, बलखाते
झुंड अल्फाजों के
बुदबुदाने लेगे
जब शब्द मन में
तब होती कविता
विरह की …………..
एक पल के लिए सही
जहां कंही भी हो तुम
आज रात,
छत पर आना
चाँद देखने
हम भी देखेगें
चाँद में तुम्हारा अस्क़
आईने सा …..

सजन

Author
Sajan Murarka
Recommended Posts
है समाज का दर्पन कविता
जीने का अवलंबन कविता मेरे दिल की धड़कन कविता कसी हुई है गति यति लय पर, छंदों का अनुशासन कविता भावों का कागज़ पर चित्रण,... Read more
ऐ चाँद ! ना हँस मेरी तन्हाई पर , तू भी अकेला है मेरी तरह | तेरी रोशनी भी उधार की है , मेरी गुमसुम... Read more
***** कविता कोई लिखूं क्या मैं *****
एवज में इस खालीपन के भूल चुका मैं अपना निजपन समय के खाली हाथों में रहने दो यह विरह वेदना हृदय के बंद कपाटों में... Read more
कविता
भौरे की गुंजन, कोयल की कू-कू, चारु-चन्द्र चन्द्रिका, प्रीत बरसे, प्रेम विरह की अग्नि में,हृदय मेरा जलता रहे, सुर नर मुनि,सब धैर्य को त्यागे, विरह... Read more