.
Skip to content

तन्हाईयों का बाजार

किरन मिश्रा

किरन मिश्रा

कविता

April 13, 2017

तन्हाईयों का बाजार
लगाती हैं तुम्हारी यादें
हर शाम ढले……..
कभी आओ ना तुम भी….
तुम्हारी.. खुशबूओं से महकता इत्र…
तुम्हारी जादुई हसी……से छनकती पायल…
तुम्हारी वो सिन्दूरी बिदियाँ…
जिसे कभी टाँका था..
चूम कर मेरे माथे पर…
तुम्हारी दी हुई होंठों की सुर्ख गुलाबी हँसी…..
वो कंगन में खनकती खुशी….
सब है इस बाजार में… इन्हें…
बेमोल बेच दूँगी तुम्हें….
इक बार तो आओ ना अपनी अमानते…
छूकर फिर इनमें जान भर दो ना… सब सूनी… तुम बिन….
तुम्हारी राह इकटक ताकती हैं ..लगा…. हर शाम तुम्हारी यादों का बाजार….
इक बार आओ ना कान्हा…. नटखट.. छलिया… तुम सुन रहे हो ना…..
लगाकर बैठी हूँ तुम्हारी यादों का बाजार.. ..फिर शाम ढले….

किरण मिश्रा
13.4.2017

Author
किरन मिश्रा
"ज़िन्दगी खूबसूरत कविता है,और मैं बनना चाहती हूँ इक भावनामयी कुशल कवियत्री" जन्म तिथि - 28 मार्च शिक्षा - एम.ए. संस्कृत बी. एड, नेट क्वालीफाइड, संप्रति- आकाशवाणी उद्घघोषिका(भूतपूर्व) प्रकाशित कृति- साँझा संकलन "झाँकता चाँद"(हायकु) विभिन्न पत्र- पत्रिकाओं में समय-समय पर... Read more
Recommended Posts
दो आँखे
पलके फिर उठती पलके फिर झुकती है, तुम्हारी आँखे शर्रात से कब रूकती है, कभी मुझको समझती कभी मुझको डराती, तुम्हारी ये दो आंखे क्यों... Read more
तुम्हे तुम्हारी मगरूरियत मुबारक .....
तुम्हे तुम्हारी मगरूरियत मुबारक मुझे हमारी इन्सानियत मुबारक मैं हु तुम्हारी बेरुखी से वाक़िब लोगो को तुम्हारी मासूमियत मुबारक। (अवनीश कुमार) (ऐसी बेबसी कभी ना... Read more
तेरी आँख का काजल
घटा घनघोर से प्यारा तुम्हारी आँख का काजल घनेरी साँझ से गहरा तुम्हारी आँख का काजल तुम्हारी जुल्फ के साये में जब भी सांस लेता... Read more
??सरकार तुम्हारी आँखों में??
सजा है जन्नत का दरबार तुम्हारी आँखों में। खोया हुआ हूँ मैं तो सरकार तुम्हारी आँखों में।। कोई मंदिर,मस्ज़िद,गिरजा,गुरुद्वारों में खोजे। मुझे हो गया कुदरते-दीदार... Read more