31.5k Members 51.9k Posts

तन्हाइयों में भी नहीं तन्हा रहा हूं मै

तन्हाइयों में भी नहीं तन्हा रहा हूं मैं।
सब भूलकर इकवार जो खुद से मिला हूं मै।।

मिलता नहीं, दिखता नहीं,सुनता नहीं फिर भी।
हर एक चेहरे मे तुझे ही खोजता हूं मै।।

अब तो महकता तन बदन हर ओर खुशबू है।
मिलकर तुझी से फूल जैसा खिल गया हूं मै।।

जीता रहा मरकर यहां तेरे लिए ही तो।
तेरा नहीं गर तो बता फिर और क्या हूं मैं।।

इस कामयाबी के लिए सबकुछ किया मैंने।
छाले बचे हैं पैर में इतना चला हूं मैं।।

जब से गया है तू कभी लौटा नहीं है पर।
दिल के लिए फिर भी अभी समझा रहा हूं मै।।

कवि गोपाल पाठक (कृष्णा)
बरेली, उप्र

6 Views
कवि गोपाल पाठक''कृष्णा''
कवि गोपाल पाठक''कृष्णा''
मीरगंज ,बरेली ,उत्तर प्रदेश ,243504,+918279648462
24 Posts · 329 Views
+918279648462, कवि गोपाल पाठक जी अन्तर्राष्ट्रीय कवि हैं।इन्होंने कई एलबम में गीत लिखे हैं और...
You may also like: