.
Skip to content

तट की व्याकुलता

डॉ०प्रदीप कुमार

डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"

कविता

March 28, 2017

तट की व्याकुलता
————–

कभी व्यथित देखा है ?
नदी के तट को !
हाँ !!!
मैंने देखा है !
एक बार नहीं
कई बार !!
जब बाँधता है
सीमाओं में नदी को !
तो व्याकुल होता है तट ||
क्यों कि सीमाओं में बाँधना
प्रतिबंध है…….
सहजता पर !
स्वतंत्रता पर !
स्वभाव पर !
लेकिन फिर भी
बाँधता है……..
नदी को सीमाओं में ||
ताकि वह मर्यादित रहे
और हद में भी ||
यह सत्य है…..
और शाश्वत भी !
कि हदों पर बंदिश
सद्गुणी भी बनाती है |
बस ! ये सोचकर ही
व्याकुलता को…..
अनदेखा करता है तट ||
——————————–
— डॉ० प्रदीप कुमार “दीप”

Author
डॉ०प्रदीप कुमार
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान... Read more
Recommended Posts
अचिन्हित तट
ओ मेरे उर की सागर के अचिन्हित से निष्काम तट.... अनगिनत लहर संवेदनाओं के उमरते तुम पर, सूना है फिर भी क्यूँ तेरा ये तट?... Read more
मोबाइल जिन्दगी
उठते ही मोबाइल देखा। सोते भी मोबाइल देखा।। चलते-फिरते खाते-पीते; बार-बार मोबाइल देखा।। मोबाइल प्रोफ़ाइल देखा। फ़ोटो की स्टाइल देखा।। कौशल अब भगवान से बढ़कर... Read more
एक बार
करता रहा मै जिन पलों का इंतजार जिंदगी मे लौट कर नही आए, एक बार । देखा करता था जिन्हे सपनो मे कई बार हकीकत... Read more
जिंदगी........
जिंदगी। हर बार पिघलते देखा तुम को जिसने जैसे चाहा बनाया तुमको हर साँचे में ढलते देखा मैंने ✍✍✍✍✍✍ क्यों कभी तुम को किसी से... Read more