.
Skip to content

ढूंढ़ते है*

रजनी मलिक

रजनी मलिक

कविता

September 28, 2016

*****/ढूंढते है/*******

मावस में पूनम की,
सहर में शबनम की,
निशानी ढूंढते है।
दर्पण में श्रंगार की,
नजरों में प्यार की,
रवानी ढूंढते है।
रिश्तों में अधिकार की,
बेबसी में स्वीकार की,
नादानी ढूंढते है।
भटकाव में भूल की,
यादों में शूल की,
कहानी ढूंढते है!
ख़ामोशी में शोर की,
सावन में मोर की,
बैचैनी ढूंढते है!
दर्द में दिलासा की,
हिज्र में आशा की,
मेजबानी ढूंढते है!
***रजनी

Author
रजनी मलिक
योग्यता-M.sc (maths) संगीत;लेखन, साहित्य में विशेष रूचि "मुझे उन शब्दों की तलाश है;जो सिर्फ मेरे हो।"
Recommended Posts
मूफ़लिसी में भी रहबरी ढूंढते हैं। बैवकुफ़ हैं वो जो जिंदगी ढूंढते हैं। रहबसर चाहते हैं सभी उजालों में। कुछ एेसे हैं जो तीरगी ढूंढते... Read more
निशाँ ढूंढते हैं.....
लोग मेरी ज़िन्दगी का निगेहबाँ ढूंढते हैं... अफसानों में मेरे इश्क़ का जहॉं ढूंढते हैं... दो पहर रात बाकी है सूली को अभी से.... गिरह... Read more
घराना ढूंढते है..................
घराना ढूंढते है कर सके गुफ्तगू हाल-ऐ-दिल ऐसा हमसफ़र याराना ढूंढते है !! सिर्फ बातो तक न हो जमीमा का ऐसी मुलाकातो का बहाना ढूंढते... Read more
मुक्तक
इसकदर उलझी है जिन्दगी तकदीरों में! हम राह ढूंढते हैं हाथ की लकीरों में! इंसान डर रहा है आशियाँ बनाने से, बंट गयी हैं बस्तियाँ... Read more