.
Skip to content

!!!!!! ढूँढते हैं !!!!!!!

Brijpal Singh

Brijpal Singh

लेख

June 24, 2016

क्या कयामत आई है दिल-ए दीवाना
तुझे ही ढूँढते हैं कचहरी-ताडीखाना
————————–
हो कहीं तू मिल जा मुझे
लिये फिरता है तेरा शौक मुझे
—————————
खुद की गिरेवां में झांक न सका
खुद को कभी पहचाँ न सका
—————————
करिश्मा भी खुदा, अजीब है यहाँ
खुद को मसीहा सब समझते हैं यहाँ
———————–
छल है कपट है द्वेश दरिद्र है
दिखावा हैं करते मानते पवित्र हैं
———————-
तुम ही ईश हो तुम ही मसीह हो
मत ढूँढो उसे तुम क्यों भयभीत हो
————————-
मानते हैं सब जानते भी सभी हैं
आदत है मजबूर , ढूँढते भी सभी हैं
—————————–
———————————–बृज

Author
Brijpal Singh
मैं Brijpal Singh (Brij), मूलत: पौडी गढवाल उत्तराखंड से वास्ता रखता हूँ !! मैं नहीं जानता क्या कलम और क्या लेखन! अपितु लिखने का शौक है . शेर, कवितायें, व्यंग, ग़ज़ल,लेख,कहानी, एवं सामाजिक मुद्दों पर भी लिखता रहता हूँ तज़ुर्बा... Read more
Recommended Posts
खुद को है
जिन्दगी के हरेक  दंगल में......... .....................लड़ना खुद को है। .....................भिड़ना खुद को है। ......................टुटना खुद को है। ......................जुड़ना खुद को है। ये वक्त,बेवक्त माँगती हैं... Read more
मुक्तक
कुछ लोग खुद को तेरा दीवाना कहते हैं! कुछ लोग खुद को तेरा परवाना कहते हैं! कई लोग ढूँढते हैं पैमानों में तुमको, तेरी अदाओं... Read more
कहीं मैं खुद को भूल न जाऊं..
कहीं मैं खुद को भूल न जाऊं खुद से ही अनजान हो जाऊंगा किया ना था जो काम कभी काम वो अब ना कर जाऊं... Read more
कुछ शब्द~१३
(१) तुम ढूँढते रहे ख़ुद को मेरी कविता में तुम बसे थे शब्द-ए-वक़्फ़ा के मौन में *वक़्फ़ा =Interval, अंतराल (२) लिहाज़ मोहब्बत का कुछ इस... Read more