.
Skip to content

ढल गया सूरज बिना प्रस्तावना

बृजेश कुमार नायक

बृजेश कुमार नायक

मुक्तक

February 21, 2017

जनम लेकर, खेल सह सद्भावना|
युवावस्था प्यार की संभावना |
बुढ़ापे में ज्ञान आया, तन झुका |
ढल गया सूरज बिना प्रस्तावना |

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

Author
बृजेश कुमार नायक
एम ए हिंदी, साहित्यरतन, पालीटेक्निक डिप्लोमा जन्मतिथि-08-05-1961 प्रकाशित कृतियाँ-"जागा हिंदुस्तान चाहिए" एवं "क्रौंच सुऋषि आलोक" साक्षात्कार,युद्धरतआमआदमी सहित देश की कई प्रतिष्ठित पत्र- पत्रिकाओ मे रचनाएं प्रकाशित अनेक सम्मानों एवं उपाधियों से अलंकृत आकाशवाणी से काव्यपाठ प्रसारित, जन्म स्थान-कैथेरी,जालौन निवास-सुभाष नगर,... Read more
Recommended Posts
दहलीज तक आ पहुंची सांझ
ये सांझ कोई गीत गुनगुना रही थी, मेघ आसपास ही मंडरा रहे थे, सूरज जैसे थककर चूर था और सांझ की गोद को सिराहने लगाकर... Read more
II एक दिया जलता हुआ II
एक दिया जलता हुआ रात भर लड़ता रहा l चांदनी का साथ फिर क्यों पतंगा मरता रहा ll ढल गया सूरज भी जब रात की... Read more
भक्तों के बिना भगवान का वजूद क्या..........? माँ के बिना बच्चों का वजूद क्या......? माँ के बिना बेटी का वजूद क्या......? पिता के बिना पुत्र... Read more
** तुम्हारे बिना **
तन्हा-तन्हा लगता है ये दिन तुम्हारे बिना सूनी-सूनी लगती है ये रातें तुम्हारे बिना जिंदगी बेजान-सी है अब तुम्हारे बिना तन्हा-तन्हा लगता है ये दिन... Read more