.
Skip to content

डॉ.रघुनाथ मिश्र ‘सहज’ की तेवरी

DrRaghunath Mishr

DrRaghunath Mishr

तेवरी

December 18, 2016

तेवरी काव्य

डॉ.रघुनाथ मिश्र ‘सहज’ की तेवरी :
000
हमने सब कुछ हारा मितवा.
जग ने जैम कर मारा मितवा.
घूम-घूम कर दुनिया देखि,
घर है सबसे प्यारा मितवा.
बहुतों ने सब कुछ दे डाला ,
अपनों सा न दुलारा मितवा.
मिलजुल रह रुखी-सुखी खा,
कभी न हो बटवारा मितवा .
पेड़ लगाओ -पेड़ बचाओ
नहीं चलाना आरा मितवा.
पटे न बेशक अपनों से पर,
अपना सबसे न्यारा मितवा.
‘सहज’ मनुज को बिकते देखा,
हमने मगर नाकारा मितवा.
@डॉ.रघुनाथ मिश्र ‘सहज’
अधिवक्ता/साहित्यकारसर्वाधिकार सुरक्षित

Author
DrRaghunath Mishr
डॉ.रघुनाथ मिश्र 'सहज' अधिवक्ता/साहित्यकार/ग़ज़लकार/व्यक्तित्व विकास परामर्शी /समाज शाश्त्री /नाट्यकर्मी प्रकाशन : दो ग़ज़ल संग्रह :1.'सोच ले तू किधर जा रहा है 2.प्राण-पखेरू उपरोक्त सहित 25 सामूहिक काव्य संकलनों में शामिल
Recommended Posts
मुक्तक
सच बात है जज़्बात है. हर दिन एक, शुरुवात है. @डॉ.रघुनाथ मिश्र 'सहज' अधिवक्ता/साहित्यकार सर्वाधिकार सुरक्षित
नववर्ष 2017 में भी -मुक्तक
नए वर्ष 2017 में भी, हमारी मित्रता में मिठास रहे. आप सब मित्रों में विश्वाश रहे. तनाव -मलिनता से रहें दूर ही,' प्यार-मुहब्बत का आभास... Read more
तेवरी
मौजूदा दशा आज का राजनेता 12 अमीरों को ही सदा देता 16 गरीबों से ही छीन लेता, परंपरा इस देश की .16,13 =29 जो आदर्शवादी... Read more
चलो मितवा हम प्यार करें
चलो मितवा हम प्यार करें नील निलय के अंक में प्रीत का उपहार धरें नयन के पनघट पर, नेह की गागर से नैना दो-चार करें... Read more