Feb 28, 2018 · कविता
Reading time: 1 minute

डॉ. ए. पी. जे. अब्दुल कलाम पर कविता

चला गया वो आधुनिक;भगवान हमारा।
धरती सूनी हुई है;जग सूना हुआ हमारा।।

चले गए भगवान वो;तो जहाँ सारा रोया है।
देखो यारो मेरे देश ने;कलाम को खोया है।।

देश का सच्चा सपूत;था यारों वही।
भेदभाव से परे;नेक बंदा था वही।।

देता हरदम था जो एकता का पैगाम।
हुई थी जिनसे दुश्मनों की नींद हराम।।

दिया है जिसने देश को परमाणु;वो कलाम है।
उस मिसाइल मैन को यारों;शत्-शत् सलाम है।।

रचयिता-कवि कुलदीप प्रकाश शर्मा”दीपक”
मो.नं.-9628368094,7985502377

271 Views
Copy link to share
हमारे द्वारा रचित काव्य को दिए वेब पर पढ़ सकते है:- www.kavikuldeepprakashsharma.blogspot.com www.kavikuldeepprakashsharma.wordpress.com आप हमारे... View full profile
You may also like: