Nov 11, 2018 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

डाॅ०श्री रंजन सुरिदेव जी को नमन

करता हूँ अर्पण स्नेहसुमन।
करके मन से स्मरण।।
शोक संलिप्त है आज पुन:साहित्य लोक।
देखकर यह महाप्रयाण को परलोक।।
आज हो गये जो फिर से विलोपित।
काल ने कर लिया जो एक ओर ज्ञानतारा ग्रसित ।।

11 Views
Copy link to share
Bharat Bhushan Pathak
109 Posts · 2.8k Views
Follow 1 Follower
कविताएं मेरी प्रेरणा हैं साथ ही मैं इन्टरनेशनल स्कूल अाॅफ दुमका ,शाखा -_सरैयाहाट में अध्यापन... View full profile
You may also like: