.
Skip to content

डर रहा हूँ मै.

शिवम राव मणि

शिवम राव मणि

कविता

April 3, 2017

अंधकार को देखकर,उजाला खो जाने से डर रहा हूँ मै
एक आहट हो जाने पर सिसकियाँ भर ले रहा हूँ मै
जरा-सी चोट लग जाने पर गुमचोट का इंतजार कर रहा हूँ मै
थोडा-सा प्यार पाने के लिए अपने आप को दर्द दे रहा हूँ मै
क्या करु डर रहा हूँ मै

आँखे बंद हो जाने पर कल को खोज रहा हूँ मै
स्वप्ऩ मे डर को देखकर हिम्मत माँग रहा हूँ मै
जागते-जागते अपनी आँखो मे से नींद को ओझल कर रहा हूँ मै
क्या करु अब तो सोने से भी डर रहा हूँ मै

दर्द पकडकर उसे सलाखो मे जकडने की कोशिश कर रहा हूँ मै
खिडकी से बाहर देखकर एक उम्मीद की राह खोज रहा हूँ मै
एक जगह बैठे-बैठे बस यही सोच रहा हूँ मै
कि दूसरो को देखकर अपने आप को कोस रहा हूँ मै
या कल को याद करके अपने आप को खोद रहा हूँ मै
क्या करु आज से डर रहा हूँ मै

धीर रख धीर खो जाने से डर रहा हूँ मै
कहीं दम न निकल जाएं यह महसूस कर रहा हूँ मै
कि एक आसमां का साया है इसलिए धूप मे भी चल रहा हूँ मै
अब तो कदम बढ़ाने के लिए भी एक हाथ तलाश रहा हूँ मै
क्या करु सांझ मे भी अपने शरीर से छलकी हुई धूप को खो जाने से डर रहा हूँ मै……..
………
……… शि.र.मणि

Author
Recommended Posts
दोरे-हाजिर से डर रहा हूँ मैं,
दोरे-हाजिर, से डर रहा हूँ मै, रोज बेमौत मर रहा हूँ मै। ढूँढना है मुझे हुनर अपना, खुद में गहरा उतर रहा हूँ मै। ग़म... Read more
हे माँ मुझे सुला दे मै सोना चाहता हूँ
हे माँ मुझे सुला दे मै सोना चाहता हूँ तेरी ममता के आँचल का कोना चाहता हूँ हे माँ ! मुझे सुला दे मै सोना... Read more
मै नेता हूँ ।
मै नेता हूँ । लोगों को बेवकूफ बनाकर वोट लेता हूँ । मै नेता हूँ । अपराधी का मै साथी पर कानून बनाता हूँ ।... Read more
ललाहित
कलियो से जो फूल खिले उसे तोडने के लिए ललाहित हूँ मै पन्ने उधेड दिए है जो किताबो से मैने उसमे कुछ छिपाकर लिखने के... Read more