घनाक्षरी · Reading time: 1 minute

*डमरू-घनाक्षरी*

(३२ वर्ण लघु बिना मात्रा के ८,८,८,८ पर यति प्रत्येक चरण में )

(१)
नभ गरजत जल, छम छम बरसत,
टप टप पड़ पड़, जल भर घर तर।
बरबस जल अब, छत पर टपकत ,
चलत न पग सब, डग पर तम भर।।

(२)
भगवत जप कर, रब सब तम हर,
चलत न रब सह, अब कर पकड़त।
सब जन कह अब, करत रब नमन,
तन मन पर अब,
रब चरण पड़त।।

रंजना माथुर
दिनांक 18/04/2018
जयपुर (राजस्थान)
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

32 Views
Like
448 Posts · 31.8k Views
You may also like:
Loading...