ठानी है अगर किस्मत ने अंगारे बरसाने की

अर्ज किया है
ठानी है अगर किस्मत ने अंगारे बरसाने की
ठानी है मैंने भी उसे फूल बनाने की
जब शमा न हो पायी परवाने की
तो मुझे क्यों हो परवाह जग के याराने की
कोई लाख कोशिश करे मुझे नजरों से गिराने की
ठानी है मैंने भी उसे अपना बनाने की

134 Views
कृष्ण मलिक अम्बाला हरियाणा एवं कवि एवं शायर एवं भावी लेखक आनंदित एवं जागृत करने...
You may also like: