.
Skip to content

ठन्ड में पेश है चाय:-

Sajan Murarka

Sajan Murarka

कविता

January 19, 2017

ठन्ड में पेश है चाय:-

प्यारा बंधन
हम दोनों यारों में
…………………….जैसे गरम चाय

स्पर्श भावों के
रोमांच शरीर पे
…………………..जैसे वाष्पित चाय

लिखे लेख से
एक ही विचार में
………………….जैसे अनुतप्त चाय

मन तृप्ती से
प्रशन्न चहरे से
……………………जैसे ठंडाई चाय

ठंडी चुप्पी पे
तूफान ह्रदय के
…………………..जैसे छलकी चाय

हम साथ में
मगन चिन्तन से
……………….जैसे मलाईवाली चाय

ठंडी रातो में
हम दोनों साथ में
…………………..जैसे उबलती चाय

सजन

Author
Sajan Murarka
Recommended Posts
बदलाव चाहिये
बदलाव चाहिये सुबह की चाय हाथ मे अखवार वही खबर लूटमार बलात्कार भ्रस्टाचार पढ़ते पढ़ते चाय ठंडाई छाई मलाई अंतरमन मे अफसोष करते सरकार को... Read more
चाय बनाई तो बनाई
मैने चाय बनाई तो बनाई। नही बनाई तो नही बनाई। तुम्हारे पैसे तुम रखो जी मुझे नही करनी कमाई। मै तो अपने हिसाब से बनाता... Read more
सेवा
लघुकथा - "सेवा" *************** "माँ , जल्दी से पानी ले आओ, और फिर मस्त सी चाय पिला दो।" मोहन ने घर में घुसते हुए माँ... Read more
एक प्याली चाय
एक प्याली चाय और दोस्तों का साथ दूर कर देती है दिन भर की थकान निकलते है नयी बातों के किसलय छिड़ जातें है जैसे... Read more