कुण्डलिया · Reading time: 1 minute

टूट गया जो पेड़ से

विनोद सिल्ला की कुंडलियां

टूट गया जो पेड़ से , होए पात खराब|
जड़ से जो है कट गया , रहता नहीं लुआब||
रहता नहीं लुआब, ठूंठ सूखा रह जाए|
बगैर ममता इंसान , ठूंठ ज्यों ही मुरझाए||
कह ”सिल्ला” कविराय, नेह पीछे छूट गया|
मतलबी हुआ जगत , वफा का दिल टूट गया||

-विनोद सिल्ला©

1 Like · 2 Comments · 47 Views
Like
You may also like:
Loading...