Skip to content

टूटकर बिखरना अब तज भी दो यार…

अरविन्द दाँगी

अरविन्द दाँगी "विकल"

कविता

March 21, 2017

टूटकर बिखरना अब तज भी दो यार…
खिलकर सिकुड़ना अब छोड़ो भी यार…
कैसी टूटन कैसी उदासी अब खुद से…
जो रख न पाया ख्याल तुम्हारा…
जो छू न पाया मन तुम्हारा…
जिसने जाना भी नही तुमको तुणीर भर…
फिर क्यों बहावो ये अश्रु नीर तुम…
क्यों करो फिर खुद को अधीर तुम…
जो गया उसे जब न थी महत्ता तुम्हारी…
उसे न थी जब कोई परवाह तुम्हारी…
न होवो विकल न रहो खुद से मौन…
फिर से जीवंत हो उठो…
खुद में फिर खिलखिला उठो…
महकने दो खुदी को…
खुद के जीवन को फिर स्वर दो…
न मनाओ अफ़सोस और न टूटो खुद से…
ये टूटना ये बिखरना सब छोड़ दो तुम मन से…
शक्ति हो तुम यार जीवन को फिर सृजन दो…

✍कुछ पंक्तियाँ मेरी कलम से : अरविन्द दाँगी “विकल”

Share this:
Author
अरविन्द दाँगी
जो बात हो दिल की वो कलम से कहता हूँ.... गर हो कोई ख़ामोशी...वो कलम से कहता हूँ... ✍अरविन्द दाँगी "विकल"

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

आज ही अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साथ ही आपकी पुस्तक ई-बुक फॉर्मेट में Amazon Kindle एवं Google Play Store पर भी उपलब्ध होगी

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

सीमित समय के लिए ब्रोंज एवं सिल्वर पब्लिशिंग प्लान्स पर 20% डिस्काउंट (यह ऑफर सिर्फ 31 जनवरी, 2018 तक)

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you