Dec 22, 2020 · कविता

*टिकने ना देंगे हम हिंदुस्तान में*

===== 🎤✍🏻गीत
*टिकने ना देंगे हम हिंदुस्तान में*
===========

कोरोना के कह दिया है कान में
टिकने ना देंगे हम हिंदुस्तान में
चीन डोल या जा तू पाकिस्तान में
*टिकनें ना देंगे हम हिंदुस्तान में*

डर- डर के ना काम कोई हम करते हैं
विपदाओं से हंसकर हम तो लड़ते हैं
हिम्मत बहुत बची है अपनी जान में
*टिकनें ना देंगे हम हिंदुस्तान में*

भाईचारा तोड़ ना अपना पाएगा
तू भी आखिर कब तक यूं लड़ पाएगा
ढूंढ ही लेंगे बसा तू जिसकी जान में
*टिकनें ना देंगे हम हिंदुस्तान में*

तेरे खातिर घर से ना निकलेंगे हम
ये ना समझना तुझसे बहुत डरते हैं हम
फैंक देंगे तुझको पीक दान में
*टिकनें ना देंगे हम हिंदुस्तान में*

तुझको गरूर तेरा ही खा जाएगा
भाग कोरोना गीत तू रो -रो गाएगा
दफना देंगे तुझको हम श्मशान में
*टिकने ना देंगे हम हिंदुस्तान में*

कुछ दिन और बाहर निकलना भारी है
जंग हमारी तुझसे घर से जारी है
घुसनें ना देंगे हम तुझे मकान में
*टिकनें ना देंगे हम हिंदुस्तान में*

आओ मिलकर ढूंढें कुछ हल इसके
काट फैंकदो उड़ने वाले पर इसके
फिर से खिलेंगे गुल “सागर” गुलदान में
*टिकनें ना देंगे हम हिंदुस्तान में*
========
मूल व अप्रकाशित गीत
गीतकार…. *डॉ.नरेश कुमार “सागर”*
गांव- मुरादपुर, सागर कॉलोनी, जिला -हापुड (उत्तर प्रदेश)
9149087291

Voting for this competition is over.
Votes received: 106
38 Likes · 73 Comments · 1219 Views
Hello! i am naresh sagar. I am an international writer.I am write my poetry in...
You may also like: