झूठ बिके झटपट ?

पथ पर चलना सत्य के, कभी नहीं आसान l
झूठ बिके झटपट यहां, सच की बंद दुकान ll
_____________________

रखो नहीं दिल में कभी, मित्र किसी की बात l
हर रिश्ते की एक दिन, खुलती है औकात ll
_____________________
मैं मैं करते हैं सदा, गिरा नयन का नीर l
अपनों की समझे नहीं, अब तो अपने पीर l
_____________________

मिट्टी के हम सब बने,मिट्टी ही पहचान l
चार दिनों का खेल यह, खेल रहा इंसान ll
_____________________

Like 1 Comment 0
Views 124

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share