Skip to content

जो वादा किया

संजय सिंह

संजय सिंह "सलिल"

गज़ल/गीतिका

February 2, 2017

तिलक माथे जनता सजाते नहीं है l
जो वादा किया वो निभाते नहीं हैं ll

भले इनसे तो हैं कसाई के बेटे l
झूठा प्यार कोई जताते नहीं है ll

कहो आज कह दें ए महले दुमहले l
बीता साल पाच ए आते नहीं है ll

ए सोनू के अब्बा वो मोती कि नानी l
सही बात तो ए बताते नहीं है ll

“सलिल” इनसे कह दो न आए दुबारा l
अगन हम दिलों की दबाते नहीं है ll

संजय सिंह “सलिल”
प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेशl

Recommended
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
Author
संजय सिंह
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच... Read more