.
Skip to content

जोड़कर बढ़ो

Shri Bhagwan Bawwa

Shri Bhagwan Bawwa

कविता

January 1, 2017

रूढियों को पीछे , छोड़कर बढ़ो,
जो भी टूटा है उसे जोड़कर बढों ।
यूं तो हर वर्ष आता है नया साल,
इस बार अहम् को तोड़कर बढ़ो ।
बहुत ही खूबसूरत दिखेगी दुनिया,
जेहन से नफरतों को निचोड़कर बढ़ो।

Author
Recommended Posts
तो...
क्या रह गया है बाकी अब? अब क्यों कुछ कहना है बताओ तो! दूरियाँ बहुत हैं, नही मिट सकती अब। कहो तो,क्या कहोगे तुम! गर... Read more
समय रहते, तुम सतत ही
समय रहते, तुम सतत ही, हर काम कुछ ऐसा करो। समझ कर, सोच कर ढ़ंग से, अपना कदम आगे धरो। कुछ और आगे तो बढो।... Read more
वंदे मातरम
माँ युद्धभूभि में घूमती। राक्षसों सें कभी नहीं डरती । गरजतेहुये सिंहों से कभी डरो नहीं, वीरों शक्ति से सामना करो।।. कभी कायरता अपनाओं नही।... Read more
मनहरण दंडक छंद (सैनिकों से निवेदन)
पाक की मिटाने धाक,आगे बढ़ो काटो नाक, मारो शाक पर शाक नहीं रहे दीन का। सिंह से दहाड़ो अरिदल वक्ष फाड़ो, घूम घूम के लताड़ो... Read more