>>> जैहिंद के दोहे

जैहिंद के दोहे —-

जनता का नेतवन से, कब भंग होइ मोह ।
कब ले सोइहैं जनता, कब लिहैं ठौर-टोह ।।

पूजा, टोना, टोटका, नाहिं काहु सुहाय ।
पूजै झूठे लोगवा, मनवा छनिक भुलाय ।।

काहु नाहिं रे पूछिहैं, _ बिन तोहे सिंगार ।
तू जे सिंगार करिबै, लखिहैं लाख-हजार ।।

बड़ सजैबे कापड़ से, अरु करबे सिंगार ।
एक दिन नंगे जइबै, लिंहैं कापड़ उतार ।।

पगलाय पाई कुरसी, अँखियाँ मूँदी सोय ।
भाँड़ में गइलैं जनता, मंतरी चाँदी होय ।।

जीवन-मरन दुइ जग में, जीवन के हैं सार ।
इंतकाल जे होइहैं, ____ लगिहैं कांधे चार ।।

भज प्यारे श्रीराम तू, __ ले तनिक गति सुधार ।
बनके सज्जन क्षण भर, कर ले तनिक विचार ।।

भेद…ना जानत मनुवा, __ भगवन…अभेद होय ।
लौकिक जानत लोगवा, अलौकिक नाहिं कोय ।।

============
दिनेश एल० “जैहिंद”
03. 10. 2017

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 17

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share