.
Skip to content

जैन शिक्षा समृद्धि

Naveen Jain

Naveen Jain

कविता

February 20, 2017

जे.एस.एस में मिलता , बच्चों की मुश्किल का हल
पढ़ो समझो, समझो पढ़ो की नीति बनाती सफल
ये मंदिर है शिक्षा का यहाँ बनते हैं स्वर्णिम पल
यहाँ पलता है नन्हा मन जो होगा देश का कल

कभी प्रोजेक्टर से पढ़ाया यहाँ जाता
लैपटाॅप चलाना भी सिखाया यहाँ जाता
गुरु शिष्य का देखो यहाँ है मित्रवत नाता
जो आया एक बार यहाँ यहीं का होके रह जाता

कभी प्रतियोगिताएँ होतीं, कभी नाटक का मंचन
कभी नृत्य, संगीत कभी भजनों से मनोरंजन
बच्चों के मन को भाँपकर शिक्षक करते यहाँ संचालन
कभी बच्चे बन शिक्षक, बढ़ाते प्रोत्साहन

खेल – खेल में बच्चों को सिखाया यहाँ जाता
धार्मिक पाठ भी बच्चों को पढ़ाया यहाँ जाता
बच्चों का शारीरिक और मानसिक विकास यहाँ होता
क्रीड़ा कार्यक्रमों का आयोजन कराया यहाँ जाता

पैरेंट्स मीटिंग में अभिभावक यहाँ आते
बच्चों की गतिविधि से वे अवगत कराते
वे कहते संतुष्ट हैं जे.एस.एस से हम
कहते अच्छा लगता जब बच्चे हमें सिखाते

– नवीन कुमार जैन

Author
Naveen Jain
नाम - नवीन कुमार जैन पिता का नाम - श्री मान् नरेन्द्र कुमार जैन  माता का नाम - श्री मती ममता जैन  स्थायी पता - ओम नगर काॅलोनी, वार्ड नं.-10,बड़ामलहरा, जिला- छतरपुर, म.प्र. पिन कोड - 471311 फोन नं -... Read more
Recommended Posts
मुक्तक
कभी कभी मैं खुद से पराया हो जाता हूँ! दर्द की दीवार का एक साया हो जाता हूँ! जब बेखुदी के दौर से घिर जाता... Read more
दिल
??दिल.??. कभी दिल मुस्कुराता है. कभी आँसू बहाता है. कभी दिल टूट जाता है. कभी सपने सजाता है. कभी गुमसुम रहे ये दिल. कभी कुछ... Read more
कभी कोई कभी कोई
जलाता है बुझाता है कभी कोई कभी कोई। मेरी हस्ती मिटाता है कभी कोई कभी कोई।।1 बुरा चाहा नहीं मैनें जहाँ में तो किसी का... Read more
मुक्तक
कभी न कभी हमारा ख्वाब बदल जाता है! रूठे हुए पलों का जवाब बदल जाता है! जज्बों की आजमाइशें होंगी कभी न कम, दर्दे-जिन्दगी का... Read more