.
Skip to content

*जुबां*

Dharmender Arora Musafir

Dharmender Arora Musafir

गज़ल/गीतिका

October 16, 2016

1222 1222 1222 1222

सदा बोलो सँभलकर ही जुबां तलवार होती है!
नज़ाकत से रखो इसको ये’ तीखी धार होती है !!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
निराली हर अदा इसकी सभी का दिल लुभा लेती!
कभी ये फूल बन जाती कभी अंगार होती है!!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
सफ़र में ज़िन्दगानी के हमेशा साथ ही रहती!
कभी मँझधार अटकाती कभी पतवार होती है!!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
बशर का दिल दुखाये जो न ऐसे बोल तुम बोलो !
जुबां करती अदावत तो बड़ी मक्कार होती है!!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
मुसाफ़िर के तरानों में मुकम्मल बात है कहती!
हकीकत को बयाँ करती नहीँ बेकार होती है!!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::

धर्मेन्द्र अरोड़ा’मुसाफ़िर’

Author
Dharmender Arora Musafir
*काव्य-माँ शारदेय का वरदान *
Recommended Posts
क्रांतिकारी मुक्तक
बहर- *१२२२ १२२२ १२२२ १२२२* कभी अंग्रेज़ का हमला, कभी अपने पड़े भारी। कभी तोड़ा वतन को भी, कभी गद्दार से यारी। कलम का क्रांतिकारी... Read more
?माता-पिता?
?? *मुक्तक* ?? ?बह्र - 1222 1222 1222 1222? ?????????? अभागे लोग होते हैं पिता-माँ को सताते हैं। कभी भी चैन जीवन में न वे... Read more
ग़ज़ल : दिल में आता कभी-कभी
दिल में आता कभी-कभी जग न भाता कभी-कभी । दिल में आता कभी-कभी ।। देख छल-कपट बे-शर्मी,, मन तो रोता कभी-कभी ।। आकर फँसा जहाँ--तहाँ,,... Read more
दिल
??दिल.??. कभी दिल मुस्कुराता है. कभी आँसू बहाता है. कभी दिल टूट जाता है. कभी सपने सजाता है. कभी गुमसुम रहे ये दिल. कभी कुछ... Read more