जुगनू

जुगनू जगकर रात भर, क्या करता हैं खोज।
खुद ही खो जाता सुबह, क्रम चलता हर रोज।। १

भरी दुखों से जिन्दगी, नहीं अँधेरा साथ।
मैं जुगनू हूँ रोशनी, रखता अपने हाथ।। २

लौ लहका कर उड़ रही, जुगनू एक जमात।
उड़े पवन चिन्गारियाँ, धने अँधेरी रात।। ३

लालटेन लेकर चला, जुगनू की बारात।
ढूँढ सके पथ को पथिक, गहन रात बरसात।। ४

जगमग जीती जागती, जलते जीवित जोत।
जंगल जगमग जोत से,जला जीव खद्योत।। ५

जो जग को जगमग करे,जला स्वयं की जोत।
जंगल जगमग जोत से, जला जीव खद्योत।। ६

जगमग हीरे-सा जड़े, एक फबीले माल।
जुगनू कहलाता तभी,है गुदड़ी का लाल।। ७

जाने किस से है जलन, क्यों जलता बेचैन।
जले जुगनुओं के जिगर, जलकर जागे रैन।। ८

जीव दीप्ति जुगनू जला,ऊर्जित उज्ज्वल रेख।
भूले-भटके जब पथिक, ढूंढ सके पथ लेख।। ९

-लक्ष्मी सिंह

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 28

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share