May 18, 2016 · कविता
Reading time: 1 minute

जी करता है…..

फैला कर बाहें,
बिखरे हुए जज्बात को समेट लूं,
जी करता है,
तुम्हें अंग-अंग में लपेट लूं.

बदल दूं फाल्गुनी राग,
नई मल्हार जगा दूं,
दिल की धुन में बहक-बहक,
तार-तार खनका दूं .

इस कदर हो जाऊं तुम पर न्यौछावर,
रग-रग में जंग भर दूं,
खुद रँग जाऊँ रंग तुम्हारे,
रोम-रोम तुमको रँग दूं.

***** हरीश चन्द्र लोहुमी

1 Comment · 35 Views
Copy link to share
कविता क्या होती है, नहीं जानता हूँ । कुछ लिखने की चेष्टा करता हूँ तो... View full profile
You may also like: