.
Skip to content

जीवन साथी

Rita Singh

Rita Singh

कविता

October 19, 2016

जीवन साथी

जीवन का सबसे अनमोल रतन ,
जन्म से नाता न होकर भी
है कितना उसमें अपनापन ।
अपने सुख दुख जिससे बाँट सके
मन की उलझन सब सुलझा सके ,
जीवन के उतार चढ़ावों का
निज जीवन में आए तूफानों का
सिर्फ वही साक्षी है प्रत्यक्ष ।
जीवन का सबसे अनमोल रतन ।
ऐसा अनमोल उपहार है वो
जिस पर जरा आघात भी हो
वह आघात स्वयं पर लगता है
जब कुछ पल को भी वो
कहीं करे गमन ,
रिक्त हो जाते हैं ये
मन और सदन ।
जीवन का सबसे अनमोल रतन ।
चाहे कितना वाद विवाद करें
फिर भी एक दूजे से ही
फरियाद करें ,
ये ही एक ऐसा रिश्ता है
जिसने साथ निभाने को
लिए हैं अमूल्य सात वचन ।
जीवन का सबसे अनमोल रतन ।

डॉ रीता
आया नगर , नई दिल्ली- 47

Author
Rita Singh
नाम - डॉ रीता जन्मतिथि - 20 जुलाई शिक्षा- पी एच डी (राजनीति विज्ञान) आवासीय पता - एफ -11 , फेज़ - 6 , आया नगर , नई दिल्ली- 110047 आत्मकथ्य - इस भौतिकवादी युग में मानवीय मूल्यों को सनातन... Read more
Recommended Posts
*ये जीवन बड़ा अनमोल है*
हे मानव ! ये जीवन बड़ा अनमोल है चिन्ता कैसी करे है पगले ये दुनियां बड़ी गोलमोल है ज़िन्दगी है ये अनिश्चित तू क्यों कर... Read more
जीवन रंग-बिरंगा मेला, साथी संगी सब दो पल के, जाना जीव अकेला  ! *****************
जीवन रंग-बिरंगा मेला, साथी संगी सब दो पल के, जाना जीव अकेला ! ****************** जान बूझ कर बना नासमझ खेले जीवन खेला एक-एक कर आगे... Read more
नव-फूल
"नव-फूल" --------------------- जब तक जीओ सुख से जीओ | बेमतलब में ग़म ना पीओ || गमी तो साथी वो बला है........ टाले से जो नहीं... Read more
मानव जीवन
मानव जीवन / दिनेश एल० "जैहिंद" कौन जाना वह जीवन क्यों पाया ।। इस धरती पर वह क्योंकर आया ।। यह जीवन तो है एक... Read more