.
Skip to content

जीवन सहरा सा हुआ,

Dr Archana Gupta

Dr Archana Gupta

कुण्डलिया

June 5, 2016

आज विश्वपर्यावरण दिवस पर

जीवन सहरा सा हुआ, दिखे रेत ही रेत
ऐसी बरसी आग है , सूख गए सब खेत
सूख गए सब खेत , बरस पानी भी जाता
इतना ,उगा अनाज , सड़ाता और बहाता
दिखे अर्चना रोज ,कर्ज का बढ़ता पहरा
खुशियों से हो रीत, हुआ ये जीवन सहरा
डॉ अर्चना गुप्ता

Author
Dr Archana Gupta
Co-Founder and President, Sahityapedia.com जन्मतिथि- 15 जून शिक्षा- एम एस सी (भौतिक शास्त्र), एम एड (गोल्ड मेडलिस्ट), पी एचडी संप्रति- प्रकाशित कृतियाँ- साझा संकलन गीतिकालोक, अधूरा मुक्तक(काव्य संकलन), विहग प्रीति के (साझा मुक्तक संग्रह), काव्योदय (ग़ज़ल संग्रह)प्रथम एवं द्वितीय प्रमुख... Read more
Recommended Posts
जुगनुओं के खेत में
जुगनुओं के खेत में (मुक्तक) **************************************** साँझ होते देख हलचल उस चमकती रेत में, कुछ लगा हमको अलग सा उस नवल संकेत में, जब सुना... Read more
शायरी तक आ गए
हम जो डूबे प्यार में तो शायरी तक आ गए भाव दिल के सब उतर कर लेखनी तक आ गए जीत तो पाये नहीं हम... Read more
गुड़िया आई गुझिया लाई
गुड़िया आई गुझिया लाई सावन का मौसम मनभावन डाल डाल पर पड गए झूले हम सब झूले मन भी झूमे कजरी गीत सुनी सुहाई गुड़िया... Read more
प्रेम
दो मुक्तक खट्टा-मीठा कड़वा सब भूलते गए प्रेम में भगवान के जब डूबते गए सार सारा ज़िन्दगी का आ गया समझ और बंधन मोह के... Read more