Feb 18, 2017 · दोहे
Reading time: 1 minute

जीवन के आयाम

चोरी मक्कारी ठगी,झूठ सुबह से शाम!
बदल गये क्या वाकई,जीवन के आयाम!

देख सुदामा मीत को , नजरे फेरें श्याम !
बदल गये इस दौर में,जीवन के आयाम !!

राधे-राधे कर रहा, ..गली-गली बदनाम !
बदल लिए जिस संत ने,जीवन के आयाम !!
रमेश शर्मा.

37 Views
RAMESH SHARMA
RAMESH SHARMA
509 Posts · 35k Views
Follow 16 Followers
दोहे की दो पंक्तियाँ, करती प्रखर प्रहार ! फीकी जिसके सामने, तलवारों की धार! !... View full profile
You may also like: