.
Skip to content

जीवन का सार है हिंदी….

रीतेश माधव

रीतेश माधव

कविता

September 14, 2017

जीवन का सार है हिंदी
हिंदुस्तानियों का अभिमान है हिंदी…
भारत भूमि देवी सामान
तो देवी का श्रृंगार है हिंदी..
जय हिंद की भाषा है हिंदी
भारत की शान है हिंदी…
जिसने पूरे देश को जोड़े रखा है
वो मजबूत सूत्र है हिंदी…
हिन्दुस्तान की गौरवगाथा है हिंदी
हम सबों की स्वाभिमान है हिंदी…
जिससे सैकड़ो भाषा की कोपलें खिली
ऐसी कामधेनु सी है हिंदी….
जिसने गुलामी में क्रांति की आग जलाई
ऐसे वीरों की प्रसूता है हिंदी….
जिसके बिना हिन्द थम जाए
ऐसी जीवनरेखा है हिंदी…..
जिसने काल को जीत लिया है
ऐसी कालजयी भाषा है हिंदी…
सरल शब्दों में कहा जाए तो
जीवन की परिभाषा है हिंदी….

Author
Recommended Posts
भारत भाषा हिंदी
दुनिया में लाखों भाषाएँ, मेरी भाषा हिंदी। अलंकारों से सजी हुई है, भारत भाषा हिंदी।। दसों रसों का सार है जिसमें,रसमयि भाषा हिंदी। छंदों से... Read more
हिंदी हिंदुस्तान की
हिंदी हिंदुस्तान की हिंदुस्तान की भाषा हिंदी, हिंदी हिंदुस्तान की। निज गौरव अभिमान की, भाषा है बलिदान है। सरगम भी संगीत का है जो, सात... Read more
वो जबान है हिंदी
(हिंदी पखवाड़े में हिंदी पर रचनायें) छंद सार (मापनी मुक्तमक) मात्रा भार- 16,12 = 28 पदांत- है हिंदी समांत- आन जन जन की है भाग्य... Read more
हिंदी
जन जन की है भाषा हिंदी भारत की अभिलाषा हिंदी विश्व पटल पर कदम बढ़ाती एक नई आशा है हिंदी विश्व गुरू का मान है... Read more