.
Skip to content

जीवन का खेल बडा अनोखा है.

shweta pathak

shweta pathak

कविता

January 8, 2017

दो हसीन पल जी लेने दो यारो.
ये जिन्दगी मिली है, बड़ी मुद्दतो बाद. इसमे गम ही सही. इस गम को पी लेने दो यारो….
कल नसीब मे क्या लिखा
भविष्य को किसने जाना है.
किस्मत को दोष देना तो लोगो का एक बहाना है..
यूं समझ लो जिन्दगी एक किताब है.
जिसका हर पन्ना नयी सोंच नया ख्वाब है..
ये जिन्दगी का खेल बड़ा ही अनोखा है.
जिसमे कभी साथ तो कभी धोखा है
यहॉ आने वाले तो कब किसने देखा है
जाने वाले को कब किसने रोका है… $

Author
shweta pathak
If u belive in yourself ; things are possible....
Recommended Posts
जीवन का खेल बडा अनोखा है.
दो हसीन पल जी लेने दो यारो. ये जिन्दगी मिली है, बड़ी मुद्दतो बाद. इसमे गम ही सही. इस गम को पी लेने दो यारो....... Read more
जीवन का खेल बडा अनोखा है.
दो हसीन पल जी लेने दो यारो. ये जिन्दगी मिली है, बड़ी मुद्दतो बाद. इसमे गम ही सही. इस गम को पी लेने दो यारो....... Read more
जीवन का खेल बडा अनोखा है.
दो हसीन पल जी लेने दो यारो. ये जिन्दगी मिली है, बड़ी मुद्दतो बाद. इसमे गम ही सही. इस गम को पी लेने दो यारो....... Read more
कविता
"मीत जिन्दगी" गम उठाने के लिए हीं जिन्दगी होती है । कब सुख से भरपूर ये जिन्दगी होती है । जिसने दुख से नाता बना... Read more