Skip to content

जीवन का आधार है बेटी “मनोज कुमार”

मनोज कुमार

मनोज कुमार

कविता

January 10, 2017

जीवन का आधार है बेटी ।
सुख शक्ति संसार है बेटी ।।

बदल देती जो दुनिया को ।
ऐसा एक बदलाव है बेटी ।।

अत्याचार करो नही इनपे ।
दुर्गा की अवतार है बेटी ।।

बोझ नही समझों ना इनको ।
दर्पण सी नाजुक है बेटी ।।

है बिटिया भविष्य हमारा ।
घर आँगन इज्जत है बेटी ।।

दहेज हत्या दूर करो सब ।
आँखों की ज्योति है बेटी ।।

करो जागरूक मन सब अपने ।
बेटो की माँ भी है बेटी ।।

ज्ञान और आंचल की छायें ।
सपनो की रानी है बेटी ।।

सभ्यता संस्कृति और विरासत ।
धर्म समाज की शिला है बेटी ।।

बंद रखोगे कब तक इनको ।
शिक्षा की हक़दार है बेटी ।।

रखो सुरक्षित बेटी को ।
बेटा भी देती है बेटी ।।

“मनोज कुमार”

Author
मनोज कुमार
नाम - मनोज कुमार , जन्म स्थान - बुलंदशहर , उत्तर प्रदेश (भारत) , शिक्षा - एम. एस. सी. ( गणित ) , शिक्षा शास्त्र , EMAIL - MPVERMA85@YAHOO.IN https://manojlyricist.blogspot.in/
Recommended Posts
?बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ?
?? जलहरण घनाक्षरी ?? ?????????? *बेटियां बचाओ* और *बेटियां पढ़ाओ* सब बेटियों पे टिका जग बेटी है परम् धन। कोख में जो बेटी हो तो... Read more
बेटी
बेटी है आधार जगत का बेटी से है सार जगत का बेटी देवी,बेटी सीता बेटी बाइबल,कुरान और गीता। बेटी में संसार छिपा है जग का... Read more
आज भी बेटी कल भी बेटी
*हलचल बेटी* एक सवाल एक हल भी बेटी,, आज भी बेटी कल भी बेटी,, खामोशी इन लवो की बेटी,, और दिल की हलचल बेटी,, आसानी... Read more
कविता- बेटी
बेटी है स्वर्ग धरा का , मानव का है नन्दनवन । ेटी अंधविश्वास का अन्त है , बेटी है नव परिवर्तन । बेटी आधुनिकता का... Read more