Apr 30, 2017 · कविता
Reading time: 1 minute

जीवन एक संघर्ष

कई जीत बाकी है
कई हार बाकी है
अभी जीवन के सार बाकी है

अभी तो निकले ही घर से लक्ष्य को पाने को
ये तो संघर्ष का एक पन्ना है..
अभी तो पूरी किताब बाक़ी है..!

3 Likes · 233 Views
रीतेश माधव
रीतेश माधव
58 Posts · 5.3k Views
Follow 1 Follower
You may also like: