जीवनी स्थूल है/सूखा फूल है

जीवनी स्थूल है
़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़
ईश्वर पत्थर में पर पाते सदा वह फूल है |
आचरण का बल तथा जित ज्ञान-प्रेमी तूल है |
उसी दर पर लोग आएंगे सदा सद्बोधहित|
चले जो विपरीत उसकी जीवनी स्थूल है |

सूखा फूल है
़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़
प्यार बिन सारा जगत स्थूल है |
प्रीति,पोषक जल भरी शुभ गूल है |
लहलहाओगे न तुम, सद्हर्ष बिन |
प्रेम बिन उर-फसल सूखा फूल है |

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

Like Comment 0
Views 76

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share