23.7k Members 50k Posts

जीने की कला

जीने की भी कला है
जी रहे है सब
कुछ होश में
कुछ बेहोशी में,
पर सब जी ही रहे है
रंग में भी
बेरंग में भी,
बदरंग के बचने की कोशिश में
बस जी लेते है
खुश रहने की आदत के वायदों के साथ,
सुख में भी
दुःख में भी
हँस लेते है,बोल लेते है
सह लेते है
सहनशीलता के साथ,
जीने की भी कला है ये एक
बस जी लेते है,मुस्कुरा लेते है
अपनों के साथ****

^^^^^दिनेश शर्मा^^^^^

8 Comments · 207 Views
Dinesh Sharma
Dinesh Sharma
44 Posts · 3.7k Views
सब रस लेखनी*** जब मन चाहा कुछ लिख देते है, रह जाती है कमियाँ नजरअंदाज...