.
Skip to content

जीना इसी का नाम है

अनुजा कौशिक

अनुजा कौशिक

कविता

September 4, 2017

ज़िन्दगी दो पल की ये कभी समझ नहीं आयी
काश ऐसा होता..काश वैसा होता
यही उधेड़बुन कभी सुलझ न पायी

जाने वाला कल और आने वाला कल
क्यों बस याद रहे हर पल
जीना सीख लिया मैंने ये जान लिया अब
मेरे आज में ही हैं मेरी मुश्किल के हल

ज़िन्दगी दो पल की….

कभी जब मन मेरा भरमाया
जीवन बुरी तरह लड़खड़ाया
मैंने खुद ही खुद को समझाया
बहुत बांटना चाहा अपनों के संग
तब कोई अपना काम न आया
मन बार बार कहे यूं मुझसे
क्यों तूने अपना दिल ही दुखाया

ये ज़िन्दगी दो पल की..

कभी हार गया मन..कभी टूट गया दिल
अपना अस्तित्व ही जैसे गया हो हिल
ज़िन्दगी भी जब लगने लगी मुझे मुश्किल
ईश्वर के फ़ैसले में ही दिखी तब मंजिल
सोचा जी ले इंसां क्यों बना है यूं तू बुजदिल

ये ज़िन्दगी दो पल की…

रिश्तो के भँवर में जब भी मन घबराया
अपनों ने ही जब नज़रों से गिराया
इक आंसू भी नैंनों से बाहर न आया
अकेलेपन ने भी हरदम तड़पाया
बस ईश्वर ने ही मेरा साथ निभाया

ये ज़िन्दगी दो पल की..

अकेला चल..जीवन ने बस यही है सिखाया
खुद गिरना और उठना है..अन्तर्मन ने बस यही समझाया
कर खुद पर ही बस ऐतबार, बन अपना ही साया
ये जीवन है बस ईश्वर की एक मोह माया
मैं कायर नहीं जो मुश्किल देख घबराया
माना अँधेरा है हर तरफ़..उदासियों में है दिल घिर आया
मैंने फ़िर भी मौत नहीं जीवन है अपनाया
©® अनुजा कौशिक

Author
अनुजा कौशिक
मैं एक प्रोफ़ेश्नल सोशल वर्कर हूं..ज़िन्दगी में होने वाले अनुभवों और अपने विचारों की अभिव्यक्ति अपने लेखों और कविताओं के माध्यम से कर लेती हूं..
Recommended Posts
वक़्त गुज़रा तो नहीं लौट कर आने वाला
बात क्या है के बना प्यार जताने वाला घाव सीने में कभी था जो लगाने वाला अब मेरे दिल में जो आता है चला जाता... Read more
मन
कभी सोचो कि पल दो पल जियें खुद के लिये यारो कभी सोचो कि कोई हो जहाँ न हो कोई नज़र यारो कभी सोचो कि... Read more
आखिर मन ही तो है
आखिर मन ही तो है कभी ख्याली बूंद बन महल सजाने लगता है और कभी दूसरे ही पल खुद के बनाय घरोंदे को खुद ही... Read more
आखिर कौन हूँ मैं ???
आखिर कौन हूँ मैं ??? कितने नकाब ओढ़ रखे है मैंने हर पल बदलता रहता हूँ--- मै हर क्षण बदलने वाला व्यक्तित्व हूँ मेरा रूप... Read more